हिंदी किताबें पढ़ना आसान है। शुरुआत तो कीजिये!

नमस्कार,

Writer’s Melon परिवार की ओर से आपका स्वागत है।

मेरी पढ़ने और लिखने की शुरुआत हिंदी से हुई है। हालाँकि अब मैं अंग्रेज़ी किताबें पढ़ती हूँ और अंग्रेजी में लिखती हूँ, पर हिंदी किताबों से मुझे अब भी लगाव है। और हिंदी में अगर उर्दू का समावेश हो तो उसकी खूबसूरती और बढ़ जाती है। हिंदी किताबें पढ़ने का एक अपना ही मज़ा है!

जिन्हें ऐसा लगता है कि हिंदी पढ़ना या लिखना कठिन है, उनसे हम ये कहना चाहेंगे कि ‘हिंदी किताबें पढ़ना या हिंदी में लिखना इतना भी कठिन नहीं है। एक बार शुरुआत तो कीजिये।’

देखकर ख़ुशी होती है कि आजकल कई हिंदी किताबें प्रकशित हो रही हैं और वो प्रचलित भी हो रही हैं। नए जमाने की हिंदी किताबें। बहुत सारी लोकप्रिय अंग्रेजी किताबों का हिंदी संस्करण प्रकाशित किया जा रहा है।

अगर आप हिंदी किताबें पढ़ना पसंद करते हैं, तो आपको ये जानकार ख़ुशी होगी कि राइटर्स मेलन पर हम हिंदी संस्करण की शुरुआत कर रहे हैं, जहाँ हम हिंदी किताबों, हिंदी लेखकों के बारे में बाते करेंगे। ज्यादा अंतर नहीं है — अंग्रेजी संस्करण की तरह हम आपके साथ साझा करेंगे पुस्तक समीक्षा, लेखकों के साथ चाँद बातें, और हिंदी साहित्य से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें।

मगर, इस सोच को ज़मीनी तौर पे आगे बढ़ाने के लिए हमें आपके साथ की जरूरत होगी। अगर आप हिंदी किताबें पढ़ने के शौक़ीन हैं तो हम कोशिश करेंगे कि कुछ नयी, कुछ पुरानी किताबें आपतक पहुचायें और आप अपने विचार समीक्षा के तौर पर हमतक पहुचायें। और अगर आप लिखने के शाकिन हैं, तो हम आपसे गुज़ारिश करना चाहेंगे की आप हिंदी साहित्य के अपने अनुभव हमारे साथ एक खूबसूरत आलेख के रूप में बांटें।

हमारा ये कदम कितना सराहनीय है, ये हमें आपकी प्रतिक्रिया से पता चलेगा। हमें आपके ज़वाब का इंतज़ार रहेगा।

 

94

Tarang
Tarang Sinha is a freelance writer & author of 'We Will Meet Again'. Her works have been published in magazines like Good Housekeeping India, Child India, New Woman, Woman's Era, Alive, and a best-selling anthology @ Uff Ye Emotions 2.
http://tarangsinha.blogspot.in/

One thought on “हिंदी किताबें पढ़ना आसान है। शुरुआत तो कीजिये!

  1. राइटर्स मेलन और तरंग सिन्हा को अत्यंत शुभकामनाएं, हिंदी के लिये ये एक सराहनीय ऑनलाइन शुरुआत है।

Leave a Reply

Top